Basic Ka Teacher.Com Welcomes you….बेसिक का टीचर. कॉम में आपका स्वागत है

Translate

Sunday, 18 December 2016

Acedamic vs TET पर मानवेन्द्र सिंह की पोस्ट

उत्तरप्रदेश बेसिक शिक्षा का सबसे बडा विवाद, 12 वाँ संसोधन बनाम 15वाँ संसोधन
टीईटी परीक्षा को पात्रता परीक्षा कहा जाता है मै भी कहता हू ये पात्रता परीक्षा है लेकिन क्या एकडेमिक चयन परीक्षा है अगर टेट एक पात्रता परीक्षा है तो एकडेमिक भी एक पात्रता परीक्षा है जहाँ टेट मे क्वाईलीफाइंग का प्रमाण पत्र 60% वही एकडेमिक परीक्षओं मे 33% मे मिलता है टीईटी मे60% लाने के बाद अप्लाई कर सकते है एकडेमिक मे 33% के बाद अप्लाई कर सकते है तो क्वालिटी किसकी ज्यादा सही है यही से पता चलता है दुनिया की कोई भी येसी परीक्षा जिसमे
;
क्वाइलीफाइंग का प्रमाण पत्र दिया जाता है वो एक पात्रता परीक्षा ही होती है टेट और एकडेमिक दोनो मे प्रमाण पत्र दिया जाता है तो दोनो पात्रता परीक्षा साबित होती हैं !!
अब बात करे एकडेमिक को पात्रता परीक्षा साबित करने की टेट 2016 के लिय निरस्तीकरण का आधार 45% रिजर्व कैटगरी और50% सामान्य कैटगरी से कम अंको वालो के आवेदन निरस्त कर दिये फोटो संलग्न है
क्या बैंक IAS PcS की परीक्षा पास करने के बाद कोई प्रमाण पत्र दिया जाता है क्या??
पेपर होने के बाद मेरिट बनाई जाती है जो मेरिट मे आते है उनका चयन हो जाता है और जो रह जाते है वो बिना किसी प्रमाण पत्र के बाहर हो जाते हैं!!
ऊपर मेरे द्वारा दिये गये तर्को से ये साबित होता है ये दोनो ही पात्रता परीक्षा हैं अब विवाद ये है दोनो का कितना भाराँक दिया जाय
जैसा कि बडे भाई जुझारू और अरशद जी ने कहा था अगर100 % एकडेमिक का भारांक असवैधानिक है तो 50या 60% कैसे संवैधानिक हो सकता है तो दोनो बडे भाइयो को कहना चाहता हू कि एक टेट पात्रता परीक्षा को नजरअंदाज करके 100% एकडेमिक का भाराँक देना असवैधानिक है लेकिन वही अगर दोनो पात्रता परीक्षा का एक निश्चित अनुपात मे भारांक देकर के भर्ती करना संविधान के दायरे के अऩ्तर्गत आयेगा
जब विवाद दोनो पात्रता परीक्षाओ का है तो दोनो का भारांक दे दिया जायेगा तो संविधान के दायरे मे आ जायेगा!!!
अब बीटीसी के मित्रो मे अब 9b की बात करता हू 9b कोई बेसिक शिक्षा के इतिहास मे कोई नया नही है एकडेमिक वाले जिस9b को चैलेंज करने की बात करते है वो कई बार खारिज हो चुका है हाइकोर्ट मे दीपकशर्मा स्पेशल अपील657 9b को ही चैलेज कर रही थी इसको माननीय भोसले साहब ने खारिज किया इससे पूर्व माननीय उच्चतम न्यायालय से भी9b खारिज है न्यायमूर्ति ललित साहब ने जब 9b पर सालिस्टर जनरल रंजीत कुमार से सवाल किया कि 9b क्या है तो उन्होने साफ कहा कि वेटेज दिया जाना चाहिय फिर ललित साहब ने कहा कितना तो रंजीत जी ने कहा51 से100% तक दिया जा सकता है तो भाइयो ये9b कोई पहले से ही खारिज है इस पर कुछ नही हो सकता है जब महान्यायवादी ने माननीय उच्चतम न्यायालय मे कहा कि वेटेज देना जरूरी है तो उनसे बडा वकील कौन है जो9b को एल्ट्रावाइरस करा सकता है
कुछ लोग बडे जोर शोर से आजकल कह रहे कि केन्द्रीय परीक्षा मे टेट वेटेज नही दिया जाता है तो वहाँ पर एकडेमिक का वेटेज भी नही दिया जाता है बल्कि चयन परीक्षा होती है अगर वहाँ एकडेमिक का वेटेज होता तो हालात यूपी के तरह ही होते
भाइयो जब सब कुछ पहले ही हो चुका है तो नया कुछ नही होना है!!
अब माननीय अरशद जी से मेरा सवाल अगर टेट मे धाँधली हुयीतो सरकार ने परीक्षा को रद्द क्यु नही किया और वर्तमान समय मे पुलिस की भर्ती सपा सरकार द्वारा एकडेमिक आधार पर कराई जा रही है तो ये बताइये पुलिस की कौन सी परीक्षा मे कौन सी धाँधली हुयी थी?
ज्वलन्त मुद्दा नयी भर्ती12448 पर कुछ लोग बोल रहे कि डी.बी भोसले ने कहा यथास्थिति कि बनाये रखो इसका अर्थ ये है कि 15 एव 16 वे संसोधन से रद्द होने से जिन लोगो का चयन रद्द हो रहा है वो अपनी जगह पर बने रहेगे माननीय उच्चतम न्यायालय के अन्तिम फैसले तक नाकि ये कि 15 & 16 वाँ संसोधन को यथास्थिति किया गया है बल्कि एकडैमिक संसोधन को निरस्त किया है अत: सरकार की नयी भर्ती असवैधानिक है !!!
एकडेमिक के बन्धुओ की टेट को खतम करने की रणनीति उनके दिमाग से उत्पन होकर फेसबुक पर बडी होकर कोर्ट रूम के दरवाजे के अन्दर जाते ही दम तोड देती है!!
" जुल्मी कितना जुल्म करेगा सत्ता के गलियारों से।
जर्रा जर्रा काँप उठेगा इंकलाब के नारो से।।"
संगठित रहे
स्वस्थ रहे
गाली गलौच से बचें!!
जय माधव

No comments:

Post a Comment