Basic Ka Teacher.Com Welcomes you….बेसिक का टीचर. कॉम में आपका स्वागत है

Translate

Thursday, 18 May 2017

नेतागीरी में पीजी पाठ्यक्रम

नेतागीरी में पीजी पाठ्यक्रम

जागरण ब्यूरो, नई दिल्ली: महाराष्ट्र स्थित संस्थान रामभाव म्हालगी प्रबोधनी ने नेतृत्व, राजनीति और शासन में स्नातकोत्तर (पीजी) पाठ्यक्रम शुरू कर दिया है। इस तरह का यह देश का पहला पाठ्यक्रम है।1बुधवार को केंद्रीय मानव संसाधन विकास (एचआरडी) मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने इस पाठ्यक्रम के लांचिंग कार्यक्रम में कहा कि देश में राजनेताओं की छवि ऐसी बना दी गई थी कि प्रतिभाशाली युवा इसमें आने से कतराने लगे थे। उन्होंने कहा कि इस संस्थान से औरों को भी प्रेरणा लेनी चाहिए। भाजपा के दिवंगत नेता प्रमोद महाजन की पहल पर यह संस्थान शुरू किया गया था। रामभाव म्हालगी प्रबोधनी में इस शैक्षणिक सत्र से ‘नेतृत्व, राजनीति और शासन’ में स्नातकोत्तर पाठ्यक्रम शुरू हो जाएगा। पहला सत्र अगस्त से शुरू होगा। अब तक इस संस्थान में अल्पकालिक पाठ्यक्रम ही आयोजित किए जा रहे थे। आम तौर पर इनमें वे लोग भाग लेते थे, जो पहले से राजनीति में हैं। 1इसके कार्यकारी निदेशक रविंद्र साठे कहते हैं, ‘मोदी जी ने युवाओं से हर क्षेत्र में आगे आने की अपील की है, लेकिन राजनीति में आने के लिए उनके पास सही दिशा और मंच नहीं है। हम ऐसे युवाओं को दिशा देने का प्रयास कर रहे हैं।’ इसमें समय प्रबंधन, संगठन क्षमता, अंतर व्यक्तिगत संचार, देश के इतिहास और आध्यात्म की समझ जैसे विषय पढ़ाए जाएंगे।जागरण ब्यूरो, नई दिल्ली: महाराष्ट्र स्थित संस्थान रामभाव म्हालगी प्रबोधनी ने नेतृत्व, राजनीति और शासन में स्नातकोत्तर (पीजी) पाठ्यक्रम शुरू कर दिया है। इस तरह का यह देश का पहला पाठ्यक्रम है।1बुधवार को केंद्रीय मानव संसाधन विकास (एचआरडी) मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने इस पाठ्यक्रम के लांचिंग कार्यक्रम में कहा कि देश में राजनेताओं की छवि ऐसी बना दी गई थी कि प्रतिभाशाली युवा इसमें आने से कतराने लगे थे। उन्होंने कहा कि इस संस्थान से औरों को भी प्रेरणा लेनी चाहिए। भाजपा के दिवंगत नेता प्रमोद महाजन की पहल पर यह संस्थान शुरू किया गया था। रामभाव म्हालगी प्रबोधनी में इस शैक्षणिक सत्र से ‘नेतृत्व, राजनीति और शासन’ में स्नातकोत्तर पाठ्यक्रम शुरू हो जाएगा। पहला सत्र अगस्त से शुरू होगा। अब तक इस संस्थान में अल्पकालिक पाठ्यक्रम ही आयोजित किए जा रहे थे। आम तौर पर इनमें वे लोग भाग लेते थे, जो पहले से राजनीति में हैं। 1इसके कार्यकारी निदेशक रविंद्र साठे कहते हैं, ‘मोदी जी ने युवाओं से हर क्षेत्र में आगे आने की अपील की है, लेकिन राजनीति में आने के लिए उनके पास सही दिशा और मंच नहीं है। हम ऐसे युवाओं को दिशा देने का प्रयास कर रहे हैं।’ इसमें समय प्रबंधन, संगठन क्षमता, अंतर व्यक्तिगत संचार, देश के इतिहास और आध्यात्म की समझ जैसे विषय पढ़ाए जाएंगे।

No comments:

Post a Comment