HAPPY NEW YEAR 2023

Translate

Tuesday, 16 May 2017

पोस्ट में दम है जरूर पढ़िए* एक बार जो बाहर जायेगा वो हमेशा के लिए जायेगा कभी दोबारा भर्ती नही होगी।


पोस्ट में दम है जरूर पढ़िए
एक बार जो बाहर जायेगा वो हमेशा के लिए जायेगा कभी दोबारा भर्ती नही होगी।

▪नामांकन आधार कार्ड से लिंक होगा जुलाई तक।
▪वास्तविक छात्र संख्या औसतन 60% है।
▪वर्तमान में छात्र नामांकन 1 करोड़ 65 लाख है।
▪आधार कार्ड से लिंक होते ही छात्र नामांकन अप्परोक्सिमटेली 1 करोड़ रह जायेगा।
▪rte एक्ट के अनुसार यदि 30:1 का छात्र-शिक्षक अनुपात के हिसाब से शिक्षको की संख्या यदि कैलकुलेट की जाये तो लगभग 3 लाख 33 हज़ार (अप्परोक्सिमटेली 3.5 लाख) रह जायेगी।
▪आज की तारीख में वर्तमान में क़रीब 5 लाख 85 हज़ार शिक्षक तैनात हैं।
▪आधार कार्ड से छात्र नामांकन लिंक होने पर या यूँ कह लीजिये वास्तविक नामांकन 1 करोड़ होने पर rte एक्ट के हिसाब से जितने शिक्षको की ज़रूरत यूपी में रह जायेगी उनकी संख्या सिर्फ 3 लाख 50 हज़ार होगी।
▪बाक़ी 2 लाख 35 हज़ार शिक्षक सरप्लस हो जायेंगे।
▪इतने सारे सरप्लस शिक्षको को सरकार बाहर नही निकाल सकती अन्यथा वोट बैंक कम हो जायेगी। और मुफ्त में तनख्वाह देगी नही सरकार ।
▪शिक्षामित्र और अकैडमिक को बाहर करके सरप्लस शिक्षको को ठिकाने लगाने का काम कोर्ट कर देगी।
▪सरप्लस कर्मचारियों को सरकार मुफ्त में बैठकर तनख्वाह तो देने से रही। इसलिए दोबारा भर्ती न करने के पीछे सरकार का बहाना रहेगा के जब छात्र ही नही तो फ़ालतू में शिक्षको को क्यों भर्ती करना।

No comments:

Post a Comment