HAPPY NEW YEAR 2023

Translate

Tuesday, 27 February 2018

दवाओं की तरह मेडिकल जांच की कीमतें तय करेगी सरकार, कंपनियों में मची खलबली

दवाओं की तरह मेडिकल जांच की कीमतें तय करेगी सरकार, कंपनियों में मची खलबली

अमर उजाला, नई दिल्ली Updated Mon, 19 Feb 2018 02:46 PM IST
अमरउजाला

medical check up
देश के करोड़ों लोगों को बड़ी राहत देते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सरकार जल्द ही दवाओं के अलावा मेडिकल जांच (डायग्नोस्टिक टेस्ट) की कीमतें तय करने वाली है। इसके तहत विभिन्न पैथोलॉजी और डायग्नोस्टिक सेंटर की आसमान छूूूती कीमतों और मरीजों से लूटमार के खेल पर लगाम लगेगी। सरकार के इस कदम ने चिकित्सीय उपकरण के उद्योग में खलबली मचा दी है।

विभिन्न निर्माता कंपनियां अपने-अपने स्तर पर इस फैसले को बेबुनियाद बताने में जुटी हैं। लेकिन सरकार का रुख एकदम स्पष्ट होने से उनका तनाव बढ़ा है। दरअसल, अक्सर देखने को मिलता है कि अगर मरीज का कोई टेस्ट किसी लैब या सेंटर में 100 रुपये में हो रहा है तो वही टेस्ट दूसरी लैब या सेंटर में 300 से 500 रुपये में होता है।

विभिन्न सुविधाओं और जांच की विश्वसनीयता का हवाला देकर मरीजों से ज्यादा कीमतें वसूली जाती हैं। इसी गोरखधंधे के खिलाफ नीति आयोग और केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने मिलकर काम शुरू कर दिया है। अगले महीने 12 मार्च को बुलाई बैठक में इस पर फैसला हो सकता है।

एमआरआई और सीटी स्कैन की लूट होगी खत्म
सूत्र बताते हैं कि इस फैसले के बाद सबसे पहले और बड़ी राहत एमआरआई और सीटी स्कैन पर मरीजों को मिलेगी। आमतौर पर देखने को मिलता है कि एक जैसा एमआरआई कहीं पांच तो कहीं तीन हजार रुपये में होता है। जबकि उसकी गुणवत्ता और प्रकार समान होता है। इसके कारण मरीज सीधे तौर पर लूट का शिकार हो रहा है।


300 तरह के टेस्ट की बनेगी सूची

medical check up
300 तरह के टेस्ट की बनेगी सूची
प्राप्त जानकारी के अनुसार, नीति आयोग और केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने मिलकर एक मसौदा तैयार किया है। इसमें आवश्यक दवाओं की राष्ट्रीय सूची की तरह मेडिकल टेस्ट की सूची भी बनेगी। इसमें रक्तजांच, एमआरआई, सीटी स्कैन, अल्ट्रासाउंड, यूरिन जांच, किडनी और हार्ट जांच, ब्लड प्रोफाइल सहित करीब 300 से ज्यादा मेडिकल टेस्ट की सूची बनेगी, जिसे देश भर में लागू किया जाएगा। फिलहाल इस मसौदे पर भारतीय कंपनियों ने बातचीत पूरी हो चुकी है।

ये मानक हुए हैं तय
पैथोलॉजी पर सरकार ने तय किए मानकों में जांच केन्द्रों को बेसिक, मीडियम और एडवांस कैटेगरी में बांटा है। पिछले दिनों इसका ड्राफ्ट नोटिफिकेशन भी जारी हो चुका है। इसके तहत हर जांच केंद्र को की गई सभी जांचों का ब्यौरा रखना आवश्यक होगा। इससे अनावश्यक जांचों पर लगाम लगाई जा सकेगी।

अब तक ये हो चुका है सस्ता
केंद्रीय रसायन एवं उर्वरक मंत्री अनंत कुमार के मुताबिक पिछले तीन वर्षों के भीतर सरकार एक हजार से ज्यादा दवाओं की कीमतों पर लगाम कस चुकी है। जबकि स्टेंट, घुटना और कूल्हा प्रत्यारोपण भी सस्ता हुआ है। जबकि वर्ष 2014 तक देश में केवल 400 तरह की दवाओं पर ही सरकार का नियंत्रण था। ठीक इसी तरह आने वाले वक्त में इम्प्लांट भी सस्ते करने की कवायद जारी है। दावा है कि अगर कोई मरीज मधुमेह ग्रस्त है और वह हर दिन दवाओं का सेवन करता है तो दवाओं से लेकर जांच तक प्रति मरीज पांच हजार रुपये प्रति माह तक का फायदा मरीज को हुआ है।

राष्टीय सूची में और जुड़ेंगी दवाएं
बंगलुरू में तीन तक चले इंडिया फॉर्मा और मेडिकल डिवाइस कान्फ्रेंस में मौजूद सूत्र बताते हैं कि 12 मार्च को ही सरकार देश में लागू 351 आवश्यक दवाओं की राष्ट्रीय सूची में बदलाव करने वाली है। इस बैठक में विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के प्रतिनिधि भी होंगे। बताया जा रहा है कि डब्ल्यूएचओ और भारत की राष्ट्रीय सूची में काफी अंतर है। जिसे खत्म करने के लिए ही सरकार ये कदम उठा रही है।

7वां वेतन आयोग: सरकारी कर्मचारियों के लिए खुशखबरी, 21 हजार रुपए होगी न्यूनतम सैलरी!

7वां वेतन आयोग: सरकारी कर्मचारियों के लिए खुशखबरी, 21 हजार रुपए होगी न्यूनतम सैलरी!

Zee News Hindi 26 Feb. 2018 15:49

लाखों सरकारी कर्मचारी 7वें वेतन आयोग की सिफारिशों के लागू होने के बाद अपने बढ़े हुए वेतन का इंतजार कर रहे हैं. इस बीच, ये खबर आई है कि सरकार अप्रैल से बढ़ी हुई सैलरी देना शुरू कर सकती है.

मैट्रिक्स स्तर से 1 से 5 के वेतन प्राप्त करने वाले कर्मचारियों की सैलरी बढ़ाई जा सकती है.

खास बातें

7वें वेतन आयोग के तहत अप्रैल से मिल सकती है बढ़ी हुई सैलरी
न्यूनतम सैलरी और फिटमेंट फैक्टर को बढ़ाने का फैसला संभव
18000 रुपए से बढ़ाकर 21 हजार रुपए की जा सकती है न्यूनतम सैलरी
नई दिल्ली: लाखों सरकारी कर्मचारी 7वें वेतन आयोग की सिफारिशों के लागू होने के बाद अपने बढ़े हुए वेतन का इंतजार कर रहे हैं. इस बीच, ये खबर आई है कि सरकार अप्रैल से बढ़ी हुई सैलरी देना शुरू कर सकती है. एक रिपोर्ट के मुताबिक, वित्त मंत्री अरुण जेटली ने न्यूनतम सैलरी और फिटमेंट फैक्टर को बढ़ाने का फैसला किया है. आपको बता दें, अरुण जेटली ने दो साल पहले राज्यसभा में बढ़ा वेतन देने का वादा किया था. इसके अलावा 6 जुलाई, 2017 को केंद्र सरकार ने 7वें केंद्रीय वेतन आयोग (सीपीसी) की सिफारिशें गजट में छापी थीं. सातवें वेतन आयोग के मुताबिक केंद्र सरकार के कर्मचारियों की सैलरी हर महीने 7 हजार से लेकर 18 रुपए तक बढ़ सकती है.
21000 रुपए हो सकती है न्यूनतम सैलरी
अंग्रेजी अखबार सेन टाइम्स में छपी खबर के मुताबिक, मैट्रिक्स स्तर से 1 से 5 के वेतन प्राप्त करने वाले कर्मचारियों की सैलरी बढ़ाई जा सकती है. इनकी न्यूनतम सैलरी को तय वेतन 18000 रुपए से बढ़ाकर 21 हजार रुपए किया जा सकता है. वहीं, फिटमेंट फैक्टर को भी 2.57 गुना से बढ़ाकर 3 गुना किया जा सकता है. कर्मचारियों को इसका फायदा एक अप्रैल 2018 से मिल सकता है. हालांकि, केंद्रीय कर्माचरियों की मांग है कि उनकी न्यूनतम सैलरी को 18,000 रुपए महीने बढ़ाने के बजाय 26,000 रुपए महीने की जाए. इसके अलावा फिटमेंट फेक्टर को भी 2.57 गुना से बढ़ाकर 3.68 गुना कर दिया जाए.
निम्न स्तर के कर्मचारियों को होगा फायदा
एक अधिकारी ने अखबार को बताया कि वित्त मंत्री अरुण जेटली मध्य स्तर के कर्मचारियों के लिए वेतन वृद्धि के बजाय निम्न स्तर के कर्मचारियों को चुनना पसंद करेंगे. इसके अलावा, रिपोर्ट में कहा गया है कि व्यापक मध्य-स्तरीय कर्मचारियों को ज्यादा वृद्धि नहीं दिखाई देगी, क्योंकि, आय के ध्रुवीकरण के लंबे समय से चलने वाले रुझान और केंद्रीय सरकार के विभागों में सिकुड़ते मध्य स्तर को देखते हुए ऐसा लगता है.
वित्त मंत्री लेंगे फैसला
अधिकारिक सूत्रों के मुताबिक, वित्त मंत्री 30 अक्टूबर 2017 के डीओपीटी पत्र की अनदेखी कर खुद मामले को देख रहे हैं और अप्रैल से वेतन वृद्धि को लागू करने के लिए संबंधित हितधारकों के साथ मामले की चर्चा कर रहे हैं. 12 फरवरी को वित्त मंत्रालय ने सभी समूहीय अधिकारियों के समूह के साथ-साथ केंद्रीय बोर्ड ऑफ एक्साइज एंड कस्टम्स (सीबीईसी) के तहत सभी निदेशालयों के ग्रुप बी और सी केडर के कर्मचारियों के विलय का निर्देश दिया.
एरियर का नहीं मिलेगा फायदा
सूत्रों की मानें तो सातवें वेतन आयोग के तहत बढ़ी हुई सैलरी और फिटमेंट फैक्टर अगर लागू होता है तो कर्मचारियों को एरियर का फायदा नहीं मिलेगा. पिछले हफ्ते की कुछ मीडिया रिपोर्ट में यह बात सामने आई थी कि अप्रैल 2018 से बढ़ी हुई सैलरी मिल सकती है. लेकिन, सरकार एरियर देने के मूड में नहीं है. वहीं, सरकार के वित्तीय सलाहकारों ने वेतन वृद्धि से अतिरिक्त बोझ पड़ने की बात कही थी.
कमेटी का गठन किया गया
रिपोर्ट्स के मुताबिक, केंद्र सरकार ने एक उच्च स्तरीय कमेटी का गठन किया है. इसमें सभी विभागों के अधिकारियों और मंत्रियों को शामिल किया गया है. इस समिति में गृह मंत्रालय और रक्षा मंत्रालय के सचिवों के अलावा डिपार्टमेंट ऑफ पर्सनल एंड ट्रेनिंग, पेंशन, रिवेन्यू, एक्सपेंडेचर, हेल्थ, रेलवे बोर्ड के साइंस एंड टेक्नॉलोजी के चैयरमेन और डिप्टी कैग इसके मेंबर हो सकते हैं. हालांकि, अभी तक इस कमेटी के बारे में भी कोई आधिकारिक बयान नहीं आया है.

Saturday, 17 February 2018

अंतर जिला तबादले को 35 हजार आवेदन

अंतर जिला तबादले को 35 हजार आवेदन

राज्य ब्यूरो, इलाहाबाद : बेसिक शिक्षा परिषद के 35 हजार से अधिक शिक्षकों ने अंतर जिला तबादले के लिए ऑनलाइन आवेदन किया है। गुरुवार शाम पांच बजे तबादले की वेबसाइट बंद हो गई है। अब आवेदन करने वाली शिक्षक-शिक्षिकाओं को बीएसए कार्यालय में आवेदन की हार्डकॉपी शुक्रवार को जमा करनी होगी और 17 फरवरी को प्रदेश भर में एक साथ बीएसए कार्यालय पर तबादले की काउंसिलिंग होगी।1परिषदीय स्कूलों के शिक्षकों ने अंतर जिला तबादले के लिए इस बार दो चरणों में ऑनलाइन आवेदन किया है। पहले 16 से 29 जनवरी तक उन शिक्षक-शिक्षिकाओं ने आवेदन किए, जिन्होंने पांच वर्ष की सेवा पूरी कर ली है। इस बीच अध्यापिकाओं की याचिका पर हाईकोर्ट ने उन्हें पांच वर्ष की सेवा से सशर्त छूट देने का निर्देश दिया। शासन के आदेश पर परिषद ने नौ से 15 फरवरी तक सिर्फ उन शिक्षिकाओं के आवेदन स्वीकार होंगे, जो पति के निवास स्थान या फिर ससुराल वाले जिले में जाना चाहती हैं। गुरुवार को शाम पांच बजे तक करीब 35 हजार से अधिक शिक्षक-शिक्षिकाओं ने आवेदन किए हैं। गुरुवार को अंतिम तारीख होने के कारण बड़ी संख्या में आवेदन हुए हैं। अधिक हिट होने से वेबसाइट कई बार हैंग हुई, फिर भी इच्छुक अध्यापिकाओं ने आवेदन कर लिए हैं। अब वह शुक्रवार को बीएसए कार्यालय में आवेदन की हार्डकॉपी जमा करेंगी और 17 फरवरी को बीएसए कार्यालय पर होने वाली काउंसिलिंग में शामिल होंगी। बीएसए 23 फरवरी तक ऑनलाइन आवेदनों का सत्यापन करके रिपोर्ट बेसिक शिक्षा परिषद मुख्यालय को भेजेंगे। सचिव ने निर्देश दिया है कि इसमें यह अनिवार्य रूप से देखा जाए कि यदि उनके पति सरकारी सेवा में हैं तो कहां तैनाती है। जिन आवेदन पत्रों को निरस्त किया जाए, कारण स्पष्ट रूप से लिखा जाए। अंतर जिला तबादला आदेश होली बाद जारी होने के आसार है।

Friday, 16 February 2018

Golden opportunity to work in IIT, engineer degree holder and postgraduate can both apply

Golden opportunity to work in IIT, engineer degree holder and postgraduate can both apply

Job Desk, Amar Ujala Updated Thu, 15 Feb 2018 07:55 AM
Government jobs in IIT for PG degree holders

The Indian Institute of Technology (IIT) has taken the vacancy. Postgraduate and engineering degrees from the accredited institution can apply for various posts.

Details of posts: Assistant Registrar, Assistant Campus Engineer and Assistant Engineer

Educational Qualification: Post Graduate / Engineering Degree with 55 percent marks

Age limit: maximum 40/43
Year (as per rule)

Application Fee: 100 rupees for Unreserved / Other Backward Classes Free for Other Sections

Such application: Attaching self attested copies of all documents demanded with fully filled Ovdan letters, 25 will be given to the address of 'Deputy Registrar, Indian School of Mines, Dhanbad, Dhanbad-826004 (Jharkhand)' Send by March, 2018.
Basis of Selection: Written Examination and Interview
Website: www.iitism.ac.in

Government job opportunity in ISRO for BE / BTech,

Government job opportunity in ISRO for BE / BTech,

Government jobs in ISRO for BE Btech degree holders

Indian Space Research Organization (ISRO) has removed vacancy. BE / BTech degree holder can apply for the post of Scientist / Engineer from the accredited institution.

Total Posts 28
Educational Qualification: BE / BTech Degree with 65% marks
Age limit: The maximum age should be 35 years.
Details of posts: Scientist / Engineer
Last date: March 05, 2018
Application Fee: Rs 100 will be charged under the fee.
Selection Process: The selection of applicants will be according to the rules of the department.

Such applications: Online applications will be accepted on these posts. Go to the candidate's website and apply online as per the instructions given thereafter, and then keep the printout of the application safe.

CAT 2018: Registration process to apply for IIMs

CAT 2018: Registration process to apply for IIMs


As per the past trend, the registrations for CAT 2018 exams generally begins in the secong week of August. The application window remains open for a period 40 days. All the interested and eligible CAT aspirants can apply for the exam during this period. So before you get registered to appear in one of the most coveted management exams, here are a few instructions that you must read to avoid any mistakes while registering.

Registration Guide for CAT 2018

The CAT website i.e. iimcat.ac.in is made available for the purpose of registration and the conducting body also release registration guide and video to help the aspirants in smooth registration process. Before you register for the exam, it is recommended that ‘do watch the video and read the registration guide’ which talks about the forms that you would need for registering online. After watching the video, you will feel comfortable while registering for CAT 2018. Any discrepancy can cost you re-registration and payment of fee again. This process might seem time taking but would help you avoid blunders during registration.

CAT Exam: Application fees

Another crucial aspect is the registration fee. This year the CAT conducting body i.e. IIM Lucknow has increased the application fee to Rs. 1800/- from the previous year CAT registration fee of Rs. 1700/-. For the other reserved category aspirants the application fee for CAT exams remains Rs. 900/- only.

Category

Registration Fees

General / NC-OBC

Rs. 1800/-

SC/ST /PWD (DA)

Rs. 900/-

You can pay the fee through online mode only. So keep the Credit card/ Debit Card/ Online Banking facility ready to make the payment after registration is done.

Mode of Registration for CAT 2018

CAT exam aspirants are supposed to apply entirely through the ONLINE mode only. IIM Lucknow has made it mandatory for the exam aspirants to get registered online and has saved them from the hassles of visiting the banks to make the fee payment.

Perks for Women Candidates

As per the recent guidelines, female candidates will get an opportunity to take the test in their domicile city. This move is aimed at encouraging the female candidates take the test eagerly and would also invite more participation from both the genders without a bias.

This perk is also aimed at enhancing the gender diversity in the IIMs. It is expected that after this announcement the absentee ratio among the female candidates to take the exam will gradually reduce.

When the first time this initiative commenced in 2015, it became a hit and an increase in the attendance of females was quite evident.  

Rectification of errors in CAT Registration form

Caution! Once you press the ‘SUBMIT button’ after filling all the details, you will not be able to make any changes in the CAT application form. Rectification of errors is not welcomed so it is advisable that you double check the filled in information or else you might end up re-registering and paying application fee of Rs. 1800/- again. Do not submit your CAT registration form unless you are sure of all the details put in the form.

CMAT 2018 Result declared, Download CMAT scorecard

CMAT 2018 Result declared, Download CMAT scorecard on aicte-cmat.in

PUBLISHED ON : 15-FEB-2018

CMAT 2018 Result has been declared by the AICTE on the official website i.e. www.aicte-cmat.in. The CMAT Result 2018 was first to be announced at 5PM in the evening. However, the same was delayed by a few hours. CMAT Result is now available online on the website and candidates can download their CMAT 2018 Scorecard online by visiting the official website.

CMAT 2018 Result – Delayed

CMAT 2018 Result has been delayed from the official time-line provided by the AICTE in the original notification for the MBA entrance test. Earlier, the CMAT Result for MBA test of 2018 was to be released on February 4, which later on got postponed till 10th and then 14th February. However, now finally, AICTE has confirmed that the CMAT Result 2018 will be made available to the test-takers on 15th February and CMAT scorecard download will also be available to the candidates on the official website i.e. www.aicte-cmat.in. Even today, the CMAT 2018 Result was expected to be announced at 5PM, which was delayed by a few hours. Now, CMAT Result and CMAT Scorecard are available online to the candidates who appeared for the January 20, 2018.

Steps to check CMAT 2018 Result online

Nearly 60,000 candidates who have appeared for the 20th January MBA entrance test will be able to check the CMAT 2018 Result online by visiting the official website i.e. www.aicte-cmat.in. to make sure that candidates do not face any issues while checking the CMAT result online, we have provided the step-by-step process to check CMAT 2018 Result online below. Candidates can follow these steps to download the CMAT Result scorecard from the website.

Step 1: Visit official CMAT 2018 website i.e. www.aicte-cmat.in
Step 2: Click on the link to check CMAT 2018 Result
Step 3: Login to the portal using your registered email id and password
Step 4: Your CMAT Result 2018 will be displayed on the screen
Step 5: Check the CMAT 2018 result carefully
Step 6: Download CMAT scorecard and take printout for future references

CMAT Result 2018 – Details to be checked

Being a national level MBA entrance test, CMAT 2018 Result score is accepted by several B-schools across the country, including many top MBA colleges in India. Different B-schools have different parameters to shortlist candidates for further screening process as far as CMAT 2018 Result is concerned. Therefore, candidates must know which details to check in the CMAT 2018 Result scorecard after downloading it. Below, we have listed down the key details that must be checked in the CMAT 2018 Result scorecard.

Personal Details i.e. name, date of birth, etc.
CMAT 2018 Raw Score
CMAT 2018 Sectional RAW Score
CMAT 2018 Percentile Score
CMAT 2018 Sectional Percentile Score

CAT 2017 Topper Interview – Anshul Aggarwal Part-2

 

Validity of CMAT 2018 Result score

CMAT 2018 Result score is accepted by all the AICTE accredited MBA colleges in India and the CMAT score is valid for the period of MBA admission 2018-19 during entire academic session. So, candidates who have appeared for CMAT 2018 exam in this academic session will have the option to use for CMAT 2018 Result scorecard for MBA admissions for the entire year at any of the AICTE accredited B-schools.

CMAT Result – Scoring Trends and Analysis

The CMAT Result analysis of past year has clearly shown us that the result score and percentile follow a particular trend. The general trend with regards to CMAT 2018 result is that the higher scoring pattern leads to lower percentile among the candidates. For instance, last year, the CMAT 2017 exam was considered to be easier / high scoring as compared to the 2016 edition of the MBA entrance test. However, when it comes to percentile, less number of candidates managed to score higher percentile in 2017 despite having respectable raw scores.

CMAT 2018 Merit List

Along with releasing the CMAT 2018 Result, AICTE will also announce the CMAT 2018 merit list in which all the test-takers will be provided merit ranks. As per the MBA entrance test policy of AICTE, no candidate is disqualified and everyone is provided a rank in the CMAT Merit list. According to AICTE, According to AICTE “The results will rank all the candidates who appeared in the test based on their aptitude towards the management education in the order of their merit. Candidates will not be declared as eliminated from the admission process in the AICTE approved management programme. On the contrary the aim is to facilitate the institutions to select the suitable candidates.”

CMAT 2018 Percentile calculation

CMAT 2018 percentile calculation is done as per a fixed formula provided by the AICTE. The council uses the following formula for CMAT 2018 percentile calculation

P = ( (N- your rank)/ N) x 100

Legends: P = percentile 
N = Total number of candidates

CMAT 2018 Tie Breaker Formula

In case, two candidates get the same CMAT raw score, the council will use the following order of merit among the CMAT sectional scores as a tie-breaker to award rank to the candidates.

Quantitative Techniques & Data Interpretation
Logical Reasoning
Language Comprehension
General Awareness

CMAT 2018 Result is a very important for candidates seeking admission to AICTE accredited MBA colleges in India. 

Admit card for JEE Main 2018 will be released by 2nd week of March

Admit card for JEE Main 2018 will be released by 2nd week of March: Steps to download

Feb 15, 2018 09:54 IST

Rahul Tomar

There are two phases in Joint Entrance Examination (JEE) i.e., JEE Main and JEE Advanced. JEE Main exam is conducted by Central Board of Secondary Education (CBSE) while JEE Advanced by one of the IITs. This year JEE Advanced exam will be conducted by IIT Kanpur.

Central Board of Secondary Education (CBSE) has scheduled JEE Main 2018 offline exam on April 8, 2018 while the online exam will be on April 15 and 16, 2018. Students could submit their online application for JEE Main 2018 from December 1, 2018 to January 1, 2018. The last date to submit the fee was January 2, 2018.

There are only two months left for the examination. Now, students will have to boost their preparation if they want to score good marks in the coming examination. Students can visit our website Jagranjosh.com for all the important study material related to JEE Main

1. Syllabus: It is very important to know about the latest syllabus before appearing for the examination. Students can easily find the latest updated syllabus of all subjects.

2. Chapter Notes: Instead of reading the complete books before the examination, students can save their precious time by referring the chapter notes of all subjects i.e., PhysicsChemistry and Mathematics.

3. Previous years’ question papers: Students must refer the previous years’ question papersto know about the paper pattern difficulty level.

4. Practice papers: After completing the syllabus, students must do more and more practice papers which will help them to maintain time and accuracy at the time of the exam.

The admit card for JEE Main 2018 will be available on the official website i.e., jeemain.nic.in from the 2nd week of March. To download the admit card students can follow the steps given below:

Visit the official website i.e., jeemain.nic.inClick on the link ‘Download Admit Card of JEE Main – 2018’.Enter the application number, date of birth and password.Click on the Login button to submit the asked details.The admit card will appear on the screen.Students should check all the details like Name, Paper, Date of Birth, Gender, Test Centre, Name, City, State Code of Eligibility and Category given on the admit card very carefully.In case of any discrepancy, candidates should immediately contact the CBSE for necessary action.Download/Take a print out of the same for future reference.

The admit card for JEE Main 2018 will look like the image given below:

What to do if you forgot your login details?

If students forgot their login details, then they can follow the steps given below:

1. Click on the link I can't access my account?

2. After clicking on the link, students can make a selection of the required radio button.

3. In case of forgetting the application number, students will get a page asking the basic details like Candidate's Name, Mother's Name, Father's Name, Date of Birth, State of Eligibility and Security Pin.

4. Students will get their application number on their registered email id after filling all the details.

Thursday, 15 February 2018

Bumper govt jobs available here; Salary will be Rs 40,000/Month

Bumper govt jobs available here; Salary will be Rs 40,000/Month

New Delhi, Feb 14: Madhya Pradesh Public Service Commission has issued recruitment for many posts and 2968 candidates will be selected in this recruitment. The selected candidates will be posted at different locations. This recruitment is for Assistant Professor posts, for which the candidates can apply till 1 March 2018. In order to apply, all you have to do is just visit the official website before the last date of application.
No of vacancies: As per the notification, there are 2968 vacancies availble
Salary: Rs 15600 - Rs 39100
Eligibility: In order to apply, the applicant must have a post graduate degree and should have cleared NET
Age limit: Candidates between 21 years to 40 years and living in Madhya Pradesh are eligible to apply while candidates between 21 to 28 years and outside Madhya Pradesh can apply for recruitment before March 1st.
Selection procedure: Candidates will be selected on these posts on the basis of pre-examination, Mains and performance in interview
Application fees: General category candidates will have to pay Rs 1000 for the application and Rs 500 for the reserved category candidates. This fee can be deposited through net banking or online.
How to apply: Interested and qualified candidates can apply on the official website www.mponline.gov.in, www.mppsc.com and www.mppsc.nic.in

10th pass will get jobs; Bumper jobs issued with 21K monthly income
Job Openings in Bank of Maharashtra!!! Salary Rs. 59,170/- Per Month!!! Great Chance for MBA & Graduates!!! Apply as soon as possible!!!
Bumper govt jobs available here; Salary will be Rs 40,000/Month

Wednesday, 14 February 2018

GPAT का रिजल्ट 15 को

ग्रेजुएट फार्मेसी योग्यता टेस्ट (GPAT) 2018 के रिजल्ट की तारीख की घोषणा हो चुकी है। इसका रिजल्ट 15 फरवरी 2018 को घोषित होगा। MPharm कोर्स के लिए दी जाने वाली इस परीक्षा का रिजल्ट AICTE (All India Council for Technical Education) की ऑफिशियल साइट aicte-gpat.in. पर आसानी से देखा जा सकता है। AICTE ने GPAT की 21 जनवरी 2018 को परीक्षा संचालित की थी। 

इस तरह देख सकते हैं रिजल्ट -

1. पहले AICTE की ऑफिशियल साइट aicte-gpat.in. पर जाएं
2. वहां मौजूद रिजल्ट सेक्शन पर क्लिक करें
3. आवश्यक जानकारी दें और Submit ऑप्शन पर क्लिक करें और रिजल्ट देख लें

CMAT Result 2018: गुरुवार को घोषित हो रहे सीमेट के रिजल्ट, सिर्फ एक क्लिक पर देखें रैंक

कॉमन मैनेजमेंट एडमिशन टेस्ट (CMAT) 2018 के रिजल्ट घोषित होने की तारीख तय हो गई है। AICTE द्वारा आयोजित की जाने वाली इस नेशनल एंट्रेस टेस्ट के रिजल्ट  कल यानी 15 फरवरी को गुरुवार को घोषित होंगे। रिजल्ट देखने के लिए AICTE की ऑफिशियल साइट aicte-cmat.in. पर शाम 5 बजे के बाद देख जा सकते हैं।

Sunday, 11 February 2018

इनकम टैक्स बचाने के 8 टिप्स

इनकम टैक्स बचाने के 8 टिप्स

इकनॉमिक टाइम्स (हिंदी) | Updated Jan 7, 2011, 12:15 PM IST

इनकम टैक्स एक्ट-1961 में कई ऐसे प्रावधान हैं, जिनसे आम करदाताओं को फायदा हो सकता है, बशर्ते उन्हें इन प्रावधानों की जानकारी हो। इन्हीं प्रावधानों के बारे में विवेक कौल और ख्याति धरमसी ने कई टैक्स एक्सपर्ट से बातचीत की। यहां पर हम 8 ऐसे विकल्प दे रहे हैं, जिनके जरिए आप कर देनदारी के मोर्चे पर बचत कर सकते हैं।

1. शेयर में हुए नुकसान से लें टैक्स में राहत

क्या आप शेयर में निवेश पर हुए शॉर्ट टर्म नुकसान का फायदा उठा सकते हैं? हां, आयकर कानून तो यही कहता है। अगर आपने प्रॉपर्टी, सोना या डेट फंड से लॉन्ग टर्म कैपिटल गेन हासिल किया है, तो आप उसे शेयर से हुए शॉर्ट टर्म कैपिटल नुकसान में समायोजित कर सकते हैं। इससे आप पर टैक्स की देनदारी घट जाती है। मुंबई की टैक्स प्लानिंग और फाइनैंशियल कंसल्टेंसी वंडरलैंड कंसल्टेंट्स के डायरेक्टर संदीप शानबाग का कहना है, 'शॉर्ट टर्म कैपिटल नुकसान को शॉर्ट टर्म कैपिटल गेन्स और लॉन्ग टर्म कैपिटल गेन्स से समायोजित कर सकते हैं।'

2. एचआरए नहीं होने के बावजूद आप किराए पर टैक्स छूट ले सकते हैं

कुल घरेलू खर्च में मकान का किराया 40-50 फीसदी तक हो सकता है। यही वजह है कि एक सीमा तक ही एचआरए पर टैक्स छूट दी जाती है, लेकिन अगर आपके वेतन में एचआरए कंपोनेंट नहीं है या आप कारोबारी हैं या स्वरोजगार कर रहे हैं, तब क्या करेंगे? आयकर की धारा 80जीजी के तहत वेतन में एचआरए नहीं होने के बावजूद आप किराए के भुगतान पर टैक्स छूट का दावा कर सकते हैं। चार्टर्ड एकाउंटेंट मेहुल सेठ का कहना है, 'इस छूट के बारे में बहुत कम लोगों को जानकारी होती है।' हालांकि, इसके लिए नियम कुछ अलग हैं। किराए के भुगतान में से कुल आमदनी का 10 फीसदी घटाकर या 2,000 रुपए प्रति महीना या कुल आय के 25 फीसदी पर ही कर छूट का लाभ लिया जा सकता है। इनमें से जो सबसे कम हो, उसी पर डिडक्शन का क्लेम किया जा सकता है। इसके अलावा, करदाता और उसके पति/पत्नी या नाबालिग बच्चे के नाम पर उस शहर में मकान नहीं होना चाहिए।

अगर आप अपने माता-पिता के मकान में रह रहे हैं, तो आप उन्हें किराया दे सकते हैं। अगर आपके माता-पिता की आय का कोई दूसरा स्त्रोत नहीं हो या वे कम कर चुकाते हों, तो आपकी कर देनदारी काफी घट सकती है। हालांकि, 30 फीसदी स्टैंडर्ड डिडक्शन के बाद यह किराया माता-पिता की कर योग्य आमदनी माना जाएगा। इसका मतलब यह है कि आप सीनियर सिटिजन को सालाना 3.43 लाख रुपए तक भुगतान कर सकते हैं।

3. अगर आप पर निर्भर व्यक्ति बीमार है, तो आप कम टैक्स चुकाएं

आयकर कानून में ऐसे व्यक्ति को 40,000 रुपए तक के डिडक्शन का क्लेम करने की सुविधा दी गई है, जिस पर निर्भर कोई व्यक्ति धारा 80डीडीबी के तहत दर्ज किसी बीमारी से पीडि़त हो। चार्टर्ड एकाउंटेंट पारस सावला का कहना है, 'अगर बीमार व्यक्ति वरिष्ठ नागरिक की श्रेणी में आते हैं, तब आप 60,000 रुपए तक की रकम पर छूट का दावा कर सकते हैं।' जिन बीमारियों के लिए छूट दी जाती है, उसमें न्यूरोलॉजिक बीमारी से लेकर कई दूसरी गंभीर बीमारियों को शामिल किया गया है। इसमें आप पति या पत्नी, बच्चे, माता-पिता और भाई-बहन के इलाज पर यह छूट ले सकते हैं।

4. राजनीतिक दलों को चंदा देकर टैक्स छूट लें

क्या आप किसी राजनीतिक झुकाव की वजह से कर छूट लेना चाहते हैं? अगर आपका जवाब हां में है, तो आप आयकर की धारा 80जीजीसी (कंपनियों के लिए 80जीजीबी) के तहत राजनीतिक पार्टी को दिए गए चंदे पर छूट ले सकते हैं। सेठ कहते हैं, 'इस छूट को अप्रैल, 2010 में लागू किया गया है। यह डोनेशन आप चुनाव कराने वाले इलेक्टोरल ट्रस्ट को भी दे सकते हैं।' दूसरे सभी तरह के विकल्पों में एक सीमा तय है, लेकिन इस छूट के लिए किसी तरह की सीमा तय नहीं की गई है। इस छूट का दावा आप तभी कर सकते हैं, जब आपका डोनेशन पाटीर् खाते में जाए। अगर आप किसी व्यक्ति को नकद देते हैं, तब आप छूट के भागीदार नहीं होंगे। आप किसी चैरिटेबल संस्था को डोनेशन देकर आयकर की धारा 80जी के तहत 50 से 100 फीसदी तक छूट का दावा कर सकते हैं।

5. एजुकेशन लोन पर मिलती है कर छूट

एजुकेशन लोन पर चुकाया जाने वाला ब्याज आयकर कानून की धारा 80ई के तहत कर योग्य आमदनी से घटाया जा सकता है। कुछ साल पहले तक सिर्फ एजुकेशन लोन लेने वाले को कर छूट दी जाती थी, लेकिन अब माता-पिता या पति-पत्नी भी कर छूट का लाभ ले सकते हैं। अब आप वोकेशनल पाठ्यक्रम के लिए भी कर्ज ले सकते हैं। शानबाग कहते हैं, 'अगर आपके माता-पिता या कानूनी अभिभावक ने कर्ज लिया है, तो वे 8 सालों तक (ब्याज चुकाने के पहले साल से इस अवधि को जोड़ें) कर्ज के ब्याज पर छूट का दावा कर सकते हैं।' हालांकि, किसी अन्य रिश्तेदार के लिए लिये गए एजुकेशन लोन पर इस छूट का दावा नहीं किया जा सकता है। साथ ही यह भी ध्यान रखें कि पंजीकृत वित्तीय संस्थान से ही कर्ज लें।

6. विकलांगता पर मिलती है कर छूट

विकलांग करदाता आयकर की धारा 80यू के तहत 75,000 रुपए तक कर छूट का दावा कर सकते हैं। अगर किसी व्यक्ति पर निर्भर व्यक्ति इस श्रेणी में आता है, तो आयकर की धारा 80डीडी के तहत छूट का दावा किया जा सकता है। विकलांगता में अंधापन, कम दिखाई देना, लेप्रोसी, बहरापन, लोको-मोटर डिसेबिलिटी और मानसिक विकलांगता को शामिल किया गया है। कर छूट का दावा आप तभी कर सकते हैं जब कम से कम 40 फीसदी विकलांगता हो। अगर विकलांगता 80 फीसदी या उससे अधिक हो तो आप साल में 1 लाख रुपए की रकम पर कर छूट का दावा कर सकते हैं। निर्भर व्यक्ति में करदाता पति या पत्नी, बच्चे, माता-पिता और भाई-बहन को शामिल कर सकते हैं। इसके लिए आपको सरकारी अस्पताल के सिविल सर्जन या मुख्य चिकित्सा अधिकारी से विकलांगता सटिर्फिकेट हासिल करना होगा।

7. सेकेंड होम पर लें ढेरों कर छूट

आयकर कानून की धारा 24 बी के तहत करदाता होम लोन पर चुकाई जाने वाली 1.5 लाख रुपए तक ब्याज की रकम पर छूट का दावा कर सकते हैं। अगर कोई करदाता दूसरा घर खरीदता है और उसे किराए पर दे देता है, तब होम लोन पर सालभर में चुकाए जाने वाले पूरे ब्याज पर कर छूट का दावा कर सकते हैं। सावला कहते हैं, 'अगर आपके पास एक से अधिक मकान हैं और एक को आपने किराए पर दिया हुआ है, तो होम लोन पर लगने वाले पूरे ब्याज पर कर छूट का दावा किया जा सकता है। हालांकि, किराए से हासिल रकम पर टैक्स का भुगतान करना होगा।'

8. एचआरए के साथ होम लोन का भी लें लाभ

इससे कई लोग आश्चर्य में पड़ सकते हैं, लेकिन आप एचआरए छूट के साथ होम लोन के ब्याज के भुगतान पर कर छूट का दावा कर सकते हैं। कई संस्थान कर्मचारियों को दोनों लाभ लेने की इजाजत नहीं देते हैं। उनका तर्क होता है कि अगर कोई कर्मचारी किराया दे रहा हो, तभी एचआरए पर छूट का दावा कर सकता है और होम लोन पर लाभ तभी ले सकता है, जब वह उसमें खुद रह रहा हो। वे कहते हैं कि आप दोनों काम एकसाथ नहीं कर सकते हैं। पर शानबाग कहते हैं, 'कानूनी तौर पर देखें तो इसमें मौन स्वीकृति है। कानून में इसे साफ तौर पर मना नहीं किया गया है। इससे साफ है कि आपको इसकी इजाजत है।' 

एचआरए और होम लोन पर ब्याज, दो अलग-अलग प्रावधान हैं और एक पर छूट का दावा करने से दूसरे पर असर नहीं पड़ता है। शानबाग कहते हैं, 'करदाता कितनी भी संख्या में मकान रख सकते हैं। यह एक ही शहर में हो सकता है या भारत या विदेश में कहीं भी हो सकता है, लेकिन ऐसा कहीं नहीं कहा गया है कि आप एचआरए छूट नहीं ले सकते हैं।' शानबाग कहते हैं, 'इसी तरह से आप धारा 80 सी और 80 डी (मेडिकल इंश्योरेंस) के तहत कर छूट का दावा करते हैं। लगभग सभी लोग इन दोनों धाराओं से कर छूट का दावा करते हैं।'