Basic Ka Teacher.Com Welcomes you….बेसिक का टीचर. कॉम में आपका स्वागत है

Translate

Thursday, 15 September 2016

शिक्षणेत्तर कर्मचारी महासंघ ने 20 सितम्बर से हड़ताल की तैयारी तेज की

-

शिक्षणेत्तर कर्मचारी महासंघ ने 20 सितम्बर से हड़ताल की तैयारी तेज की
विशेष संवाददाता, लखनऊ
Updated: 15-09-16 12:42 AM

उत्तर प्रदेश शिक्षणेत्तर कर्मचारी महासंघ ने शिक्षणेत्तर कर्मचारियों की मांगों पर कार्यवाही न होने के कारण 20 सितम्बर से घोषित अनिश्चितकालीन हड़ताल की तैयारियां तेज कर दी हैं। इस आशय की जानकारी देते हुए महासंघ के प्रदेश अध्यक्ष डा. संजय शुक्ला एवं प्रदेश महामंत्री आशादीन तिवारी ने
बताया कि महासंघ प्रदेश के बेसिक, माध्यमिक, प्राविधिक, व्यावसायिक, चिकित्सा शिक्षा, महाविद्यालय, विश्वविद्यालय एवं समाज कल्याण विभाग के शिक्षणेत्तर कर्मचारी संगठनों का महासंघ है। महासंघ द्वारा शिक्षणेत्तर कर्मचारियों की मांगों के सम्बन्ध में शासन के अधिकारियों को कई मांगपत्र दिए गए लेकिन अभी तक कोई सकारात्मक कार्रवाई नहीं की गई है। जिसको लेकर शिक्षणेत्तर कर्मचारी आक्रोशित है और कर्मचारी शिक्षक संयुक्त मोर्चा द्वारा 20 सितम्बर से घोषित अनिश्चितकालीन हड़ताल में शामिल होने का फैसला किया है।
उन्होने बताया कि इस हड़ताल में प्रदेश के लगभग दो लाख शिक्षणेत्तर कर्मचारी शामिल होगें। जिसके लिए प्रदेश सरकार की कर्मचारी विरोधी नीतियां जिम्मेदार है। महासंध के नेताओं ने कहा की शिक्षणेत्तर कर्मचारी महासंघ, कर्मचारी शिक्षक संयुक्त मोर्चा का घटक संगठन है और मोर्चे के आहवान पर प्रदेश के शिक्षणेत्तर कर्मचारी अनिश्चितकालन हड़ताल में शामिल होगे।
कुछ मांगे
1- राज्य कर्मचारियों की भांति शिक्षणेत्तर कर्मचारियों को सेवानिवृत्ति के बाद 300 दिन के अवकाश के राशिकरण की सुविधा,
2- कैशलेस चिकित्सा सुविधा।
3- 7वें वेतन समिति की रिपोर्ट लागू होने से पूर्व छठें वेतन आयोग की वेतन विसंगतियां दूर किया जाना।
4- नई पेंशन व्यवस्था समाप्त कर पुरानी पेंशन व्यवस्था लागू किया जाना।
5-  31 दिसम्बर 2001 तक नियुक्त समस्त दैनिक वेतन/मस्टररोल/संविदा कर्मचारी शीघ्र विनियमित किया जाना।
6- माध्यमिक विद्यालयों में शैक्षिक अर्हता वाले शिक्षणेत्तर कर्मचारियों को शिक्षक के पद पर प्रोन्नति किया जाना।
7- शिक्षकों की भांति पी.एच.डी. वाले शिक्षणेत्तर कर्मचारियों को तीन वेतनवृद्धि दिया जाना है।

No comments:

Post a Comment