Basic Ka Teacher.Com Welcomes you….बेसिक का टीचर. कॉम में आपका स्वागत है

Translate

Tuesday, 11 April 2017

सोशल मीडिया से बिभिन्न लोगो की आज की सुनवाई पर प्रतिक्रियाएं

सोशल मीडिया से बिभिन्न लोगो की आज की सुनवाई पर प्रतिक्रियाएं

Ganesh Dikshit >>

साथियों ,
आज जैसे ही केस टेक अप हुआ तो सरकारी वकील ने नयी सरकार का हवाला देते हुये केस को समर वेकेसन के बाद जुलाई में सुनने कि गुजारिश कि जिस पर हमारी अधिवक्ता शारदा मेडम ने विरोध किया तो जज साहब श्री ए के गोयल ने मुस्कुराते हुये केस को जल्द से जल्द निपटाने कि बात कही और अगली तारीख 26 एप्रिल लगा दी ,तभी शिक्षामित्रों कि और से अधिवक्ता पावनी लक्ष्मी ने कहा कि उनका केस डिफर है इसलिये उन्हें डिटेग कर दिया जाये ,इस पर गोयल सर ने कहा कि नहीँ ,ये सब आपस में जुड़े हुये केस हैं इसलिये एक साथ सुनेंगे और सबका सहयोग रहा तो अगली डेट में क्लियर कर देंगे । आज कोर्टरूम में टीईटी 11 कि रक्षा हेतू केवल शारदा मेडम थीं और उन्होंने डेट लम्बी देने का विरोध भी किया , बाकी बड़ी-बड़ी बातें करने वालों के वे बड़े बड़े वकील कहाँ थे जो फेसबुक कि बड़ी बड़ी पोस्टों में बताये गये थे ,रामजाने , शेष कल घर पहुँचकर विस्तार से....आपका - गणेश शंकर दीक्षित ,टीईटी मोर्चा उ.प्र.

🔯🔯🔯🔯🔯🔯🔯🔯🔯🔯🔯🔯🔯

Himanshu Rana >>
मा० उच्चत्तम न्यायालय में शिक्षक भर्ती को लेकर अगली डेट 26 अप्रैल को , आज कोर्ट में
* सरकारी अधिवक्ता ने काउंसल न होने की बात कही जिस पर कोर्ट ने कहा कि ये आपकी प्रॉब्लम है
* शिक्षा मित्रों ने डी-टैग करने की बात कही उस पर कोर्ट ने कहा कि पूरा मेटर आया है तो हमारे अधिवक्ता ने कहा कि नहीं ये हमारे केस से जुड़े हैं और हमारी याचिका पर स्टे होकर पूर्ण पीठ से मेटर आया है फिर मा० न्यायमूर्ति गोयल साहब ने कहा कि डी-टैग नहीं रजिस्ट्री लिस्ट बनाये काळक्रमबद्ध तरीके से सुना जाएगा और अब हम फाइनल करेंगे
* मा० न्यायमूर्ति ललित साहब ने दिया दो सप्ताह का समय और कहा कि अगली बार एडजर्नमेंट किसी को पक्ष नहीं दिया जाएगा
अब ये केस अप्रैल , मई तक फाइनल है , हर पक्ष मानसिक रूप से हित/अहित दोनों के लिए तैयार रहे |
हर हर महादेव
धन्यवाद

आपका_हिमांशु राणा

🔯🔯🔯🔯🔯🔯🔯🔯🔯🔯🔯🔯🔯🔯🔯

🔯🔯🔯🔯🔯🔯🔯🔯🔯🔯🔯🔯🔯🔯

Vrijendra Kashyap >>> 
मित्रो कोर्ट 11बजकर 15 मिनट पर बैठी थी 
कोर्ट बैठते ही सरकार और परिषद के वकील राकेश खन्ना जी और दिनेश द्विवेदी जी ने केस अडजॉर्न करने की प्रेयर की जिसे जस्टिस ने खारिज कर कर दिया 
फिर सरकारी वकील कोर्ट से बाहर चले गए 
फिर 5 मिनट में 10 नम्बर आया तभी फिर सरकारी वकील आये और बोलते उससे पहले टेट के एक वकील ने पिछले आदेश को पालन कराने को बोला
फिर शिक्षामित्रों की तरफ से एडवोकेट महालक्षमी पावनी जी ने केस को अलग अलग बताते हुए डीटैग करने का प्रयास किया 
उसके बाद थोड़ा शोर होने लगा कोई समर वैकेशन के बाद केस लगाने को बोलना लगा तो जस्टिस गोयल ने 26 अप्रैल डेट लगा दी 
उसके बाद सिंघवी सर कुछ बोले तो 
जस्टिस गोयल ने हाई कोर्ट के आदेश के अनुसार केसों को अलग अलग करने को बोला 
तो सम्भवतः डेट 26 अप्रैल हो सकती है या बढ़ भी सकती है 
सम्भवना है कि अब प्राइमरी ,जूनियर और बीटीसी, शिक्षामित्र मामले अलग लगे क्योंकि ये तीनो आदेश अलग अलग आये है
आपका भाई

वृजेन्द्र कश्यप
**************************

No comments:

Post a Comment